कोटक महिंद्रा को 33% बढ़ोतरी के साथ 1360 करोड़ रु का नेट प्रॉफिट, NPA में कमी का मिला फायदा

कोटक महिंद्रा बैंक ने जून, 2019 में समाप्त तिमाही के दौरान 23 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 1,932 करोड़ रुपए का कंसॉलिडेटेड नेट प्रॉफिट दर्ज किया, जबकि बीते साल समान तिमाही के दौरान यह आंकड़ा 1,574 करोड़ रुपए रहा था। बैंक ने बीएसई में एक फाइलिंग के माध्यम से यह जानकारी दी।

33 फीसदी बढ़ा स्टैंडअलोन प्रॉफिट
बैंक के बयान के मुताबिक, वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही के दौरान स्टैंडअलोन आधार पर उसका नेट प्रॉफिट 33 फीसदी की ग्रोथ के साथ 1,360 करोड़ रुपए रहा, जबकि बीते साल समान अवधि के दौरान यह आंकड़ा 1,025 करोड़ रुपए रहा था।

कुल इनकम 12,129 रुपए के स्तर पर
वहीं कोटक महिंद्रा की कंसॉलिडेटेड बेसिस पर कुल इनकम बढ़कर 12,129.56 करोड़ रुपए के स्तर पर पहुंच गई, जबकि वित्त वर्ष अप्रैल-जून, 2018 के दौरान यह आंकड़ा 9,903.56 करोड़ रुपए रहा था। स्टैंडअलोन बेसिस पर बैंक की कुल इनकम 6,644.29 करोड़ रुपए से बढ़कर 7,944.61 करोड़ रुपए के स्तर पर पहुंच गई।

सब्सिडीयरीज और एसोसिएट्स का प्रॉफिट में 30 फीसदी योगदान
लेंडर ने कहा कि उसके कंसॉलिडेटेड नेट प्रॉफिट में सब्सिडियरीज और एसोसिएट्स कंपनियों का योगदान 30 फीसदी रहा। बैंक की एसेट क्वालिटी ठीक-ठाक बनी रही, क्योंकि जून, 2019 के अंत तक ग्रॉस एडवांसेज की तुलना में उसका ग्रॉस एनपीए मामूली ग्रोथ के साथ 2.19 फीसदी के स्तर पर पहुंच गया, जबकि जून, 2018 तक यह आंकड़ा 2.17 फीसदी था। हालांकि बैंक का नेट एनपीए या बैड एसेट्स घटकर 0.73 फीसदी रह गया, जबकि एक साल पहले तक यह आंकड़ा 0.86 फीसदी के स्तर पर था। बैंक की चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून अवधि के दौरान बैड लोन्स और आकस्मिक व्यय के मद में प्रोविजनिंग घटकर 350.22 करोड़ रुपए रह गई, जबकि एक साल पहले समान अवधि में 498.98 करोड़ रुपए की प्रोविजनिंग करनी पड़ी थी।

!!!! कम वैल्यूएशन पर क्वालिटी स्टॉक, डिस्काउंट पर डिविडेंड ग्रोथ और आकर्षक कीमत पर हाई ग्रोथ यहां क्लिक करें और देखें- Stock Cash Trading Tips हमें कॉल करे अभी- 9644405057

Please follow and like us:
20