सरकार ने गेहूं पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाकर की 30%, जल्‍द जारी होगा नोटिफिकेशन

देश में उम्मीद से ज्यादा गेहूं की खरीद को देखते हुए सरकार ने गेहूं पर इम्‍पोर्ट ड्यूटी 20 फीसदी से बढ़ाकर 30 फीसदी कर दी है। इस बात की जानकारी फाइनेंस मिनिस्‍ट्री के एक अधिकारी ने दी है। न्‍यूज एजेंसी कोजेन्सिस के अनुसार इस संबंध में जल्‍द ही नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा
ripplesadvisory
उम्‍मीद से ज्‍यादा रही गेहूं की खरीद
सरकार ने यह फैसला इस सीजन में गेहूं की उम्‍मीद से ज्‍यादा खरीद के चलते लिया गया है। इसके चलते चिंता जताई जा रही थी कि फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया अगर आयात ऐसा ही बढ़ता रहा तो इसे ठीक से स्‍टॉक नहीं कर पाएगा।
पहले बढ़ा चुकी है चने पर इंपोर्ट ड्यूटी  
सरकार ने इससे पहले देश में चने के रिकॉर्ड उत्पादन को ध्यान में रखते हुए इसके आयात को बढ़ाकर 60 फीसदी कर दिया था। यह बढ़ोत्‍तरी मार्च में की गई थी। राजस्व विभाग की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक, चने पर इंपोर्ट ड्यूटी 50 फीसदी से बढ़ाकर 60 फीसदी कर दी थी।  इससे पहले फरवरी के पहले सप्ताह में सरकार ने चना पर इंपोर्ट ड्यूटी 30 फीसदी से बढ़ाकर 50 फीसदी कर दी थी।
चने का रकबा बढ़ा
इस साल देश में चने का रकबा 1.07 करोड़ हेक्टेयर है, जोकि पिछले फसल वर्ष 2016-17 के 99.54 लाख हेक्टेयर से 8.13 फीसदी ज्यादा है। केंद्रीय कृषि मंत्रालय की ओर से जारी फसल वर्ष 2017-18 (जुलाई-जून) के दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के मुताबिक देश में चने का रिकॉर्ड उत्पादन 1.11 करोड़ टन होने का आकलन किया गया है, जोकि पिछले साल से 18.33 फीसदी अधिक है। पिछले साल देश में चने का उत्पादन 93.8 लाख टन हुआ था, जबकि पिछला रिकॉर्ड उत्पादन 2013-14 का 95.3 लाख टन है।Most valuable Financial Advisory with the name of accurate tips provider here invites you to trade in a financial market with risk-free work click here for more >> Ripples Advisory

Please follow and like us:
20

About admin

The stock market refers to any market arena where dealings of securities including equities, bonds, currencies, and derivatives occurs. Ripples Advisory Private Limited, Indore is the one who undertakes a wide range of competence, and our client’s services are boosts by our knowledge of regional risks and markets to inform the quirky financial, risk managing and regulatory appeals that they face.
View all posts by admin →